Remembering India’s Women Feminist Writers Through the Ages

 by
Education , Global Goals , Leadership , Supporters in Action

By: Aditi Arora, In-Country Consultant, India

  1. Savitribai Phule- A Dalit Feminist Writer (1831-1897) 

    Malvika Asher for Zubaan

January 3rd marked the 186th birth anniversary of Savitribai Phule who is considered as one of the first feminist icons of India. At a tender age of 9, she was married off to Jyotirao Phule but this only motivated her to fight vehemently against the custom of child marriage.

Phule, a Dalit herself envisioned a world where everyone was equal. She advocated for the rights of the oppressed and the subjugated. Not just for women but also for the Adivasis and Muslims who did not have a voice of their own. She wrote several essays and anthologies reflecting the issues of her time and presented a strong critique of the orthodox ideologies. Her works examined caste and education with a unique feminist lens.

Phule was a staunch believer in the value of education. She realized that education was the path to empowerment and opened the first girls’ school in Pune. She was later nominated as the headmistress of the school and set up several others. Her friend, Fatima Sheikh, also taught at the school and became the first Muslim woman teacher of modern India. In 1852, Phule started the Mahila Seva Mandal, one of the first women’s rights group. The Mandal aimed to create awareness among women about their rights.

Savitribai was reformist and fought for women’s liberation by supporting widow’s who were shunned from the society. To celebrate her extraordinary life, the University of Pune was rechristened as Savirtibai Phule University in 2014.

  1. Begum Rokeya Sakhawat Hossain- Author of the First Sci-Fi Feminist Novel (1880-1932)

“Why do you allow yourselves to be shut up?
Because it cannot be helped as they are stronger than women.

A lion is stronger than a man, but it does not enable him to dominate the human race. You have neglected the duty you owe to yourselves and you have lost your natural rights by shutting your eyes to your own interests.” ― Begum Rokeya Sakhawat Hossain, Sultana’s Dream

Rokeya Sakhawat Hossain an educationist, reformer, litterateur and feminist was born in the dark year of 1880 in erstwhile-united Bengal.  She belonged to a conservative Muslim and the women in her family including herself were strict followers of the Purdah. It was probably because of her childhood experiences that Rokeya took refuge in her writings.

She is touted as Bengal’s first female feminist writer. Her belief in women’s rights is well perceived in her works. She has written numerous novels, short stories and poems with strong female protagonists and advocating for equality of treatment for both men and women. She founded the first school for Bengali Muslim girls named Sakhawat Memorial Girls’ School and an NGO named Anjuman-e-Khawatin-e-Islam. The organization helped women in need by providing education, employment and making them aware of their rights.

Seven years before ‘Herland’ was published, Begum had already delved into the realms of feminist dystopia and published ‘Sultana’s Dreams’ in 1908. The book imagined a technologically advanced India where gender roles were reversed and women were the dominant gender. In her utopian land, women had unrestricted access to public spaces.

“I read Begum’s Abarodhbasini when I was in school; I was very inspired by her concept of ‘manoshik dashhotto’, which dared women to dream. I took up English Literature in college as I wanted to read more of her works”– Aashna, 18 yrs.

Begum spent her life championing women’s causes and inspiring girls and women to fight for their rights. She galvanized them under the slogan “Jago Go Bhogini” (Wake Up Sisters) to stand up against mental slavery, which paved the way for subjugation.

To commemorate the extraordinary woman that she was, 9th December is observed as ‘Rokeya Day’ every year in Bangladesh.

Read what Twitter has to say about Begum here.

3.Krishna Sobti- The First Hindi Feminist Writer (1925-Present)

Mukul Dube / Creative Commons License

Last month, Krishna Sobti turned 93, perhaps the oldest living novelist in India. The same month she was also awarded the prestigious Jnanpith Award, the second woman writer to have been bestowed this honor after Mahadevi Verma.

Sobti introduced strong, audacious, sexually assertive and liberated women characters in her books at a time when very few writers had the courage to write about women’s lives and express their desires.  At a time when no one had written or heard of feminism in Hindi literature, Sobti wrote “ Daar se Bichhudi” (Memory’ s Daughter) and “ Mitron Marjani” (To Hell with You Mitron) which charted the journey of women in search for their identities.  Sobti’s works have led people like Kuldeep Kumar call her ‘ the original feminist’. Perhaps her convincing female characters can be attributable to her mother who was a dominant influence in her life.

Krishna Sobti envisages a society that is equal and a system where no one is oppressed. Her actions do not defy her words. She has always been on the forefront to fight for freedom of speech and gave up the prestigious Sahitya Akademi Award in protest.

These three pioneers of Indian feminist movement symbolizing different eras still continue to inspire feminist movements in modern India. They lived in a time when modern press was still advancing in India but their voices were strong enough to cross the colonial censorship.

The works of these extraordinary women are still relevant in this time and age and this article is a small yet significant gesture to remember them and what they stood for.

 

विभिन्न काल के नारीवादी लेखिकाओं को स्मरण

  1. -सावित्रीबाई फुले: एक दलित नारीवादी लेखिका (1831-1897)

Credits – Malvika Asher for Zubaan. Can be accessed at https://www.google.com/culturalinstitute/beta/exhibit/UwKCW6eHcTWSLg

3 जनवरी 2018 को सावित्रीबाई फुले का 187 वां जन्मदिवस मनाया गया, जिन्हें भारत की प्रथम नारीवादी आदर्शों में एक माना जाता हैI 9 वर्ष के बाल काल में ही उनका विवाह ज्योतिराव फुले से कर दिया गया, जिससे उन्हें इस बाल विवाह प्रथा से लड़ने की प्रेरणा मिली।

फुले जो स्वयं दलित थी, एक ऐसे समाज का कल्पना की थी जहां सब समान होI  उन्होंने शोषितों और वंचितों के हक के लिए आवाज उठाई I उन्होंने ना केवल महिलाओं बल्कि आदिवासी और मुस्लिमों जिनकी कोई अपनी आवाज नहीं थी, उनकी भी बात की। उन्होंने अनेक निबंध और संकलन लिखे, जो उस काल के समस्याओं  एवं पुरातनपंथी विचारधारा का सशक्त आलोचना को प्रस्तुत करती थीI उनकी रचना जाति और शिक्षा को विशेष नारीवादी नजरिया से परखता है I

फुले शिक्षा के महत्व की कट्टर समर्थक थीI उन्होंने महसूस किया कि शिक्षा ही सशक्तिकरण का पथ है और पुणे में प्रथम कन्या विद्यालय की स्थापना की, बाद में वह उसकी प्रधानाध्यापिका बनी और कई अन्य विद्यालय स्थापित कियेI उनकी सहेली फातिमा शेख, ने उसी विद्यालय में अध्यापन कार्य किया एवं आधुनिक भारत की प्रथम मुस्लिम महिला शिक्षिका बनीI 1852 में फुले ने “महिला सेना मंडल” बनाई, जो महिला अधिकारों का पहला संगठन माना जाता हैI मंडल का मुख्य उद्देश्य महिलाओं में उनके अधिकारों के प्रति जागरूकता फैलाना थाI

सावित्री बाई  एक सुधारक थी, जो समाज से उपेक्षित विधवा महिलाओं की मुक्ति के लिए लड़ाई लड़ी I उनके महान जीवन को स्मरण करते हुए 2014 में पुणे विश्वविद्यालय का नाम सावित्रीबाई फुले विश्वविद्यालय किया गया

  1. बेगम रुकैया सखावत हुसैन—प्रथम साई-फाई (वैज्ञानिक कल्पना) उपन्यास की लेखिका

(1880-1932)

तुम खुद को क्यों शांत कर लेती हो? क्योंकि इससे मदद नहीं मिलेगी,चूंकि वह महिलाओं से ज्यादा मजबूत है। शेर मनुष्य से ज्यादा शक्तिशाली होता है, इससे उसे मानव जीवन को प्रभावित करने का हक नहीं मिल जाता। तुम अपने उस कर्तव्य से भटक गए हो, जो खुद तुम्हारे लिए है और इस प्रकार अपने अधिकार खो दिए हो,अपने हित के लिए अपनी आंखें बंद कर।(Trans.)
—-बेगम रोकैया सखावत हुसैन ( सुल्ताना के स्वप्न में)

रुकैया सखावत हुसैन, जो शिक्षाविद,सुधारक,साहित्यकार और नारीवादी थी, का जन्म पूर्व संयुक्त बंगाल में 1880 के पिछड़े दौर में हुआ था। उनका ताल्लुक रुढ़िवादी मुस्लिम परिवार से था। उनके पिता औपचारिक शिक्षा के विरोधी थे। उसके घर की सभी महिलाएं, जिसमें वह स्वयं भी थी पर्दा करती थीI यह संभवत: उनके बचपन का अनुभव था, जिसको आश्रय वह अपने लेखन में दी।

वह बंगाल की प्रथम “नारीवादी लेखिका” कही जाती है। उनके स्त्री अधिकारों की झलक उनके रचनाओं में भी देखा जा सकता है। उन्होंने सशक्त नारी पात्रों से युक्त अनेक उपन्यास, कहानियां. कविताएं लिखी. जिसमें स्त्री-पुरुष समानता की बात की गई है। उन्होंने बंगाली मुस्लिम लड़कियों के लिए पहला विद्यालय खोला जिसका नाम “सखावत स्मारक कन्या विद्याल” कर दिया गया एवं एक गैर सरकारी संगठन जिसका नाम “अंजुमन ख्वातीन-ए-इस्लाम “ भी बनाया। यह संगठन महिलाओं की शिक्षा, रोजगार और उन्हें अपने अधिकारों के बारे में जागरुक कर जरूरत के समय मदद करता थी I

“हेराल्ड” के प्रकाशित होने के 7 वर्ष पूर्व, बेगम  ने पहले ही नारीवादी डिस्टोपिया के क्षेत्र में प्रवेश किया और “सुल्ताना का स्वप्न” लिखा, जो 1908 में प्रकाशित हुआ ।इस पुस्तक में तकनीकी रूप से मजबूत देश की कल्पना की गई है, जहां स्त्री-पुरुष की भूमिका को बदल कर प्रस्तुत किया एवं स्त्री प्रमुख भूमिका में थीI उन्होंने अपने स्वप्नवादी लोक में ऐसे स्त्री की कल्पना की जहां महिलाओं की पहुंच हर जगह हो।

 मै बेगम कीअवरोधवासीनीको तब पढी जब विद्यालय में थीI मैं उनकेमनोसिकदासोतोके विचार से काफी प्रभावित थीI जिसने महिलाओं को स्वप्न देखने का साहस दिया मैंने विद्यालय महाविद्यालय में अंग्रेजी साहित्य लिया क्योंकि मैं उन्हें और पढ़ सकूं I (Trans.)

आशना(18 वर्ष)

बेगम ने अपने जीवन को महिलाओं अधिकारों के विजेता के रूप में जियाI  जिसने महिलाओं को उनके अधिकारों के लिए लड़ने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने महिलाओं को ‘जागो भगिनी’ के नारों के तहत सशक्त किया और मानसिक गुलामी जो पराधीनता का पथ प्रशस्त करता है के विरुद्ध तैयार की। बांग्लादेश में प्रत्येक वर्ष 9 दिसंबर को उनके महान जीवन को स्मरण करते हुए रुकैया दिवस मनाया जाता हैI

ट्विटर मैं लोगो ने क्या लिखा, यह जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

  1. कृष्णा सोबती हिंदी की पहली नारी वादी लेखिका (1925- आज तक)

Credits- Digital illustration based on original photograph by Mukul Dube / Creative Commons Licence). Can be accessed at https://scroll.in/article/856611/the-jnanpith-award-celebrates-hindi-writer-krishna-sobtis-exuberance-as-well-as-resistance

गत माह, कृष्णा सोबती 93 वर्ष की हो गई, जो संभवतः भारत की सबसे वृद्ध जीवित उपन्यास कार हैI  पिछले महीने ही उन्हें प्रतिष्ठित ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया और इस प्रकार वह महादेवी वर्मा के बाद दूसरी महिला है जिन्हें यह पुरस्कार मिला है।

सोबती ने उस दौर में अपनी रचनाओं में महिला पात्रों को सशक्त, निर्भीक, यौनमुखर एवं स्वतंत्र छवि के रूप में प्रस्तुत किया, जब कुछ ही लेखक स्त्री जीवन और इच्छाओं को व्यक्त करने का साहस रखते थे।

उस दौर में, जब हिंदी साहित्य में किसी ने नारीवाद ना तो लिखा और सुना था तब सोबती ने “डार से बिछड़ी” और “मित्रों मरजानी” ही लिखकर महिलाओं की अस्मिता की पहचान के पथ को प्रशस्त किया। सोबती की रचना से प्रभावित होकर, कुलदीप कुमार जैसे लोगों ने उन्हें मूल नारी वादी कहाI

उनके विश्वसनीय नारी पात्रों के बारे में कहा जाता है, कि यह उनकी माता का प्रभाव है जिनका उनके जीवन पर एक गहरा छाप था। कृष्णा सोबती, एक ऐसे समाज और व्यवस्था तंत्रिका सपना देखती है जहां सब समान हो,कोई शोषित नहीं I उनके कार्य  एवं उनके शब्द में एक रुपकता हैI अभिव्यक्ति की आजादी की लडाई के लिए वह सदैव अग्रिम पंक्ति में रही और विरोध में प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरस्कार तक लौटा दिया।

भारतीय नारी वादी आंदोलन की यह तीन प्रमुख अगवा विभिन्न काल खंड के प्रतीक है और आधुनिक भारत में नारी वादी आंदोलन को प्रेरित करती हैI इन लोगो ने उस दौर को देखा है जब भारत में छाप खाना धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा था, इसके बावजूद भी उनके विचार इतने प्रखर और सशक्त थे कि औपनिवेशिक प्रतिबंध को पार कर गए I इन महान महिलाओं की रचनाएं आज भी प्रासंगिक है और यह लेख एक छोटा किंतु महत्वपूर्ण है उन्हें याद करने के लिए जिसके लिए वे जानी जाती हैI